कितना प्यार !

“सुनो!”

“हाँ कहो।”
“मुझे कितना प्यार करते हो?”
“बहुत सारा।”
“बहुत सारा, कितना?”
“जितने आसमान में तारे।”
“रहने दो ये फ़िल्मी डायलॉग।”
“बताओ न, कितना?”
“जितना समुंदर में पानी।”
“ये भी कोई जवाब हुआ।”
“क्यों ये जवाब अच्छा नहीं लगा तुम्हें।”
“नहीं।”
“फ़िर तुम क्या सुनना चाहती हो मेरी जान?”
कहते हुए पति ने उसकी कमर में हाथ डाल कर अपनी ओर खींच लिया।
थोड़ी ही देर में दोनों एक दूसरे में समाये हुये अपने प्यार का सबूत दे रहे थे।

अंबर हरियाणवी